50 th Day :: The Beuty of Cactus

लोग फूलों की खूबसूरती तो देखते हैं लेकिन काँटों की परवाह कोई नहीं करता।  मुझे तो गुलाब के फूलों के साथ-साथ उसके काँटों में भी खूबसूरती नज़र आती है और गुलाब के काँटों की खूबसूरती है कि वो कैसे उस फूल की सुरक्षा के लिए तत्पर रहता है।
इसी तरह काँटों में भी सबसे खूबसूरत मुझे Cactus का पौधा लगता है और Cactus की सुंदरता है, जीवन जीने के लिए संघर्ष करने की उसकी क्षमता।
    Cactus उस तपते रेगिस्तान में भी ज़िंदा रहता है जहाँ ज़मीन और पानी का कोई नामोनिशान नहीं होता और जैसे ही बदलते मौसम के साथ  पानी की दो बूँदें इसे मिलती हैं ये फिर से हरा हो जाता है और यहाँ तक कि इसमें फूल भी निकल आते हैं।
                हमें भी कैक्टस की तरह ही जीने की सीख लेनी चाहिए।  हमें भी ज़िन्दगी में आने वाली तूफानी मुसीबतों  का सामना डटकर करना चाहिए, इनसे हार नहीं माननी चाहिए और जैसे ही अनुकूल समय आये हमें ज़िन्दगी का स्वागत मुस्कराकर करना चाहिए। 

Comments

Popular posts from this blog

71th Day :: Politics based on hate

77th post :: Ram Mandir/Babri masjid in Ayodhya matter

76th Day :: Bhoot Pret ka chakkar : Kitna Sach Kitna Ghanchakkar