Wednesday, August 16, 2017

69th day :: reality of dreams

ज़िन्दगी में हम सभी consciousness में रहते हुए एक लक्ष्य तय करते हैं और उसे पूरा करने का प्रयास करते है। यही 'लक्ष्य तक पहुँचने की इच्छा' को हम 'dream' (or  vision ) कहते हैं। जाने -अनजाने में यह 'इच्छा' (dream )  हमारे unconscious mind में भी स्टोर हो जाती है। इसलिए जब हम unconsciousness की दशा (or sleeping position) में होते है तो हमारा unconscious mind उस अधूरी इच्छा को पूरी करने के लिए एक पूरा animation या वीडियो बनाकर हमें हमारी इच्छा को पूरी होते हुए दिखाता है।
dreams के बारे में एक और बात सच है कि ये तभी आते हैं जब दिमाग में स्थित hormones में disbalance होता है या हमारा unconscious mind जागता रहता है।
एक स्वस्थ व्यक्ति जिसका सोने -जागने का समय निश्चित हो ,कोई तनाव न हो ,खाने -पीने की मात्रा निश्चित और उचित हो या hormonal disbalance न हो,  तो उसे सपने आने की probability भी बहुत कम होती है। इसका voice -versa भी उतना ही सही है।
e.g.   हम रात को खा-पी कर समय पर सो गए और हमारे उठने का समय 7 am  है लेकिन रात में 3 am को हमें पेशाब लग जाए तो क्या होगा?चूँकि हम उस समय नींद में हैं और हमारा conscious mind सोया रहता है ,हमारा unconscious mind work करता है।  अब चूंकि हमारे hormones सिग्नल दे रहे हैं कि हमें पेशाब करना है , तो हमारा unconscious mind एक animation create करेगा कि हम किसी जगह गए हैं और वहां एक नाली है , जिसमे हम पेशाब कर रहे होते हैं लेकिन असल में हम बिस्तर पर पेशाब कर रहे होते हैं।
बड़े होने पर तो हम कण्ट्रोल कर लेते हैं या जाग जाते हैं लेकिन बचपन में हम सभी ने ऐसा किया होगा। ///

No comments:

Post a Comment